शिक्षक को बच्चों का दोस्त बनना होगा, तभी खुलकर सीख पाएंगे बच्चे

निदा फाजली का मशहूर शेर है— बच्चों के छोटे हाथों को चांद सितारे छूने दो, चार किताबें पढ़कर ये भी हम जैसे हो जाएंगे बच्चों की मासूमियत और किताबों के … Read More

जमीन को महिलाओं से बेहतर कोई नहीं जानता, फिर भी मालिकाना हक पुरुषों का क्यों!

आजाद बोल के लिए निगहत और फरहा की सोशल एक्टिविस्ट रिनचिन से लंबी बातचीत  रिनचिन ने कहा g कोयला खदानों के आसपास पर्यावरण नियमों का हो रहा खुला उल्लंघन g … Read More

उम्मीद एक बड़ी चीज है, बदलाव आएगा कोशिशें जारी हैं: श्रावणी सरकार

पत्रकारिता में ग्राउंड रिपोर्टिंग करने वाली महिलाएं आज भी बेहद कम हैं। 3 दशक पहले तो हालात और भी ज्यादा एकतरफा होते हुए पुरुषों के पक्ष में झुके हुए थे। … Read More