NIA claims

NIA claims: अलकायदा से जुड़े 9 संदिग्ध करना चाहते थे देश में धमाके, मुर्शिदाबाद और एर्नाकुलम से गिरफ्तार

NIA claimsराष्ट्रीय जांच एजेंसी ने शनिवार को पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद और केरल के एर्नाकुलम से 9 कथित आंतकवादियों को गिरफ्तार किया है। एनआईए का दावा (NIA claims) है कि यह संदिग्ध देश के अलग-अलग शहरों में आतंकी हमले की तैयारी कर रहे थे। गिरफ्तार संदिग्धों को अलकायदा से जुड़ा हुआ बताया गया है।

एनआईए सूत्रों का दावा (NIA claims) है कि ये सभी आतंकी दिल्ली, मुंबई और कोच्चि में आतंकी हमले की प्लानिंग कर रहे थे। इसके अलावा, इनका टारगेट कोच्चि नेवी बेस और शिपयार्ड था। इनके पास से हथियार और बम बनाने के सामान की बरामदगी का दावा भी किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एनआईए (NIA claims) को देश में विभिन्न जगहों पर अलकायदा के आतंकियों के एक अंतर-राज्य मॉड्यूल के बारे में खुफिया इनपुट मिले थे कि अलकायदा के ये आतंकवादी निर्दोष लोगों को मारने और आतंक पैदा करने के उद्देश्य से महत्वपूर्ण स्थानों पर आतंकी हमले करने की योजना बना रहे हैं। इनपुट्स (NIA claims) के आधार पर एनआईए ने 11 सितंबर 2020 को मामला दर्ज किया और जांच शुरू की थी।

गिरफ्तार संदिग्धों में मुर्शीद हसन, याकूल बिस्वास, मोर्शफ हुसैन, नजमुस साकिब, अबू सूफियान, मैनुल मंडल, लियू यीन अहमद, अल मामून कमाल और अतितुर रहमान है।

एनआईए ने शनिवार तड़के एर्नाकुलम और मुर्शिदाबाद के कई स्थानों पर एक साथ छापेमारी की। इस छापेमारी में कुल नौ संदिग्ध युवकों को गिरफ्तार किया गया। इनमें से छह पश्चिम बंगाल से और तीन गिरफ्तारी केरल से हुईं।

गिरफ्तार संदिग्धों के पास से डिजिटल उपकरण, दस्तावेज, जिहादी साहित्य, धारदार हथियार, देसी हथियार, घर में विस्फोटक उपकरण बनाने से जुड़े कागजात समेत अन्य आपत्तिजनक सामग्री बरामद होने का दावा किया जा रहा है।

समाचार एजेंसी एएनआई बताती है कि शुरुआती जांच के मुताबिक, इन लोगों को सोशल मीडिया पर पाकिस्तान स्थित अलकायदा के आतंकियों ने कट्टरपंथी बनाया था। साथ ही राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित कई स्थानों पर हमले करने के लिए प्रेरित किया था। इस उद्देश्य के लिए मॉड्यूल सक्रिय रूप से धन जुटाने में लगा था और हथियार और गोलाबारूद खरीदने के लिए गैंग के कुछ सदस्य दिल्ली जाने की योजना बना रहे थे।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA claims) ने कहा कि वह इन आतंकियों की पुलिस कस्टडी लेने और आगे की जांच करने के लिए केरल और पश्चिम बंगाल में कोर्ट के समक्ष पेश करेगी।