कोरोना संकट: सरकार की लापरवाही की सजा भुगतने को मजबूर देश

विवेकानंद माथने

हमने पहले ही बहुत देर कर दी है। पहले हम अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष के लिये रेड कारपेट बिछाने में व्यस्त रहे और फिर शाहीन बाग की आड़ में हिंदू मुस्लिम का खूनी खेल खेलते रहे। फिर चुनाव और सरकार गिराने में मस्त रहे। मार्च 10 के बाद जब थोडी फुरसत मिली तब सरकार ने काम शुरू किया। तब तक करोना ने पूरे देश में पैर पसार लिये थे।

आज पूरी दुनिया कोरोना वायरस के कारण भयानक स्थिति में पहुंच चुकी है। अगर हम अभी भी सावधान नहीं हुए तो पूरी दुनिया को उसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। भारत जैसे 138 करोड़ की आबादी वाले देश के लिए, जहां जनसंख्या घनत्व बहुत ज्यादा है, यह खतरा और बढ़ जाता है।

यह दुर्भाग्य पूर्ण है कि देश में कमी के बावजूद और विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी के बावजूद भारत सरकार ने 24 मार्च तक व्हेंटीलेटर, मास्क का निर्यात किया है। अगर कर्फ्यू के दिनों में सरकार ने उचित प्रबंध नहीं किया तो भारत में भुखमरी का संकट पैदा होगा। हमारे देश में कम से कम 60 करोड लोगों को मजदूरी करके ही खाना नसीब होता है। 20 करोड़ लोगों के पास आज भी खाने के लिये कुछ नहीं है। इतनी बडी जनसंख्या के लिये गंभीर संकट पैदा होगा। जैसे जैसे कर्फ्यू की समय सीमा बढेगी वैसे वैसे भारत में भुखमरी का संकट उतना ही गंभीर रूप धारण कर सकता है। अगर भूखों के लिये भोजन नहीं दिया गया तो कोरोना के साथ साथ भुखमरी से भी लोग मर सकते हैं। लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर सरकारों ने अभीतक कोई ठोस उपाय नहीं किये।

केंद्र सरकार को पूरे देश के लिए एकीकृत और व्यापक योजना बनानी चाहिये थी। लेकिन वह सारी जिम्मेदारी राज्यों पर डाल कर केवल राज्य सरकारों को दिशानिर्देश देने का ही काम करती दिख रही है। इससे आर्थिक दृष्टि से कमजोर राज्यों के लोगों को बडी कीमत चुकानी पडेगी। सरकार के पास इतना समय था कि वह बुनियादी चीजों की आपूर्ति के साथ चरणबद्ध तरीके से कर्फ्यू लगाती लेकिन वह कोरोना की गंभीरता को नहीं समझ पा रही थी। अब इसका खामियाजा सबको भुगतना पडेगा। प्राथमिक अनुमान के अनुसार कोरोना संकट का सामना करने के लिये तीन से पांच लाख करोड रुपयों की जरूरत है। लेकिन केंद्र सरकार द्वारा मात्र 15 हजार करोड रुपयों का प्रावधान किया है।

हमने पहले ही बहुत देर कर दी है। दुनिया में कोरोना का पहला परिचय 17 नवंबर को चीन में हुआ, जो दिसंबर में दुनिया के सामने आया। भारत में कोराना का प्रवेश 30 जनवरी को केरल में ध्यान में आया। चीन के अनुभव के बाद हमारे पास पर्याप्त समय था कि हम बाहर से आनेवाले लोगों को ठीक से जांच पड़ताल करके प्रवेश देते। उन्हें आयसोलेशन में या क्वारंटीन में रखते। लेकिन हमने ऐसा कुछ नहीं किया। पहले हम अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष के लिये रेड कारपेट बिछाने में व्यस्त रहे और फिर शाहीन बाग की आड़ में हिंदू मुस्लिम का खूनी खेल खेलते रहे। फिर चुनाव और सरकार गिराने में मस्त रहे। मार्च 10 के बाद जब थोडी फुरसत मिली तब सरकार ने काम शुरू किया। तब तक करोना ने पूरे देश में पैर पसार लिये थे।

इसका दोष केवल माननीय प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को नहीं दे सकते। इसमें वह सब भागीदार हैं जो कारपोरेट मीडिया के साथ इन खेलों में खुशियां मना रहे थे। और फिर उस सेनापति को क्या कहें जो युद्ध के आरंभ में ही विजयोत्सव मनाये। लेकिन ध्यान रखें, इतनी भी थालीयां न बजायें कि जब अपने घर में किसी के मौत होगी तब अपना माथा और छाती पीटने के लिये हमारें हाथों में ताकत ही न बचे।

बहरहाल, कोरोना एक नये प्रकार का वायरस है। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस ज्यादा खतरनाक नहीं है। जिसकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत है, वह आसानी से कोरोना वायरस का मुकाबला कर सकते हैं और जीत सकते हैं। संक्रमित लोगों में लगभग 80 प्रतिशत सामान्य उपचार से ठीक हो जाएंगे। सामान्य बुखार के लक्षणों के साथ यह बीमारी ठीक हो जाती है। सामान्यत: तापमान वृद्धि के साथ अनेक वायरस मर जाते हैं। लेकिन करोना पर इसका प्रभाव पड़ता नहीं दिखाई दिया। लेकिन यह माना जा रहा है कि भारत में तापमान वृद्धि के साथ कोरोना थोड़ा कमजोर पड़ सकता है।

कोविद 19 से मृत्यु का दर मात्र 3 प्रतिशत के आसपास है। दुनिया के आंकड़े बताते हैं कि जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत है ऐसे 10 से 40 साल की उम्र के व्यक्तियों का मृत्यु का प्रमाण नहीं के बराबर है। गर्भवती महिलाएं और दस साल से छोटे बच्चे, जिनमें प्रतिरक्षा प्रणाली पूरी तरह मजबूत नहीं हुई हो और 50-60 साल की आयु के बाद खासकर पहले से जिनको कई सारी बीमारियां हैं और जिसके कारण प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर है, उनपर यह वायरस भारी पडता है, जिससे उनके जान को खतरा हो सकता है। संक्रमित व्यक्ति के शरीर में कोरोना 8 से 37 दिन तक निवास करते देखा गया है।

अगर कोरोना इतना खतरनाक नहीं है और मृत्यु दर केवल 3 प्रतिशत के आसपास है, तो फिर दुनिया में कोरोना वायरस का इतना डर क्यों फैला है? इसलिये कि इससे जितने अधिक लोग संक्रमित होंगे उतने अधिक लोग मरेंगे। इस समय दुनिया की आबादी 770 करोड़ और भारत की आबादी 138 करोड़ है। मान लीजिये इसमें से 10 प्रतिशत लोगों में भी यह फैलता है तब दुनियाभर में 77 करोड़ लोग और भारत के 13.8 करोड लोग संक्रमित होंगे। 3 प्रतिशत की मृत्यु दर से दुनिया भर में 2.31 करोड़ और भारत में 41 लाख लोगों के लिये जान का खतरा हो सकता है। जिस प्रमाण में कोरोना फैलेगा उसी अनुपात में लोगों को मृत्यु का सामना करना पडेगा। कहा जा रहा है कि भारत में कोरोना 20 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों को संक्रमित करेगा। यह एक भयंकर स्थिति है और यही कारण है कि पूरी दुनिया इससे डरी हुई है।

इसलिये सबको कर्फ्यू में सहयोग करना होगा। अनावश्यक रूप से घूम रहे लोगों को प्यार से समझाकर रोकना होगा। अपने गांवों में प्रशासन की सहमति से कोई भूखा ना रहे इसकी व्यवस्था करनी होगी। केरल, महाराष्ट्र, पंजाब, उत्तरप्रदेश और दिल्ली सरकार गंभीरता से उपाय कर रही है। बाकी राज्य भी करे। कर्फ्यू को सभी सहयोग करिये। देश की जनता को खुद से अनुशासन का पालन करना होगा। यह देश के लिये एक अनुशासन पर्व है।

किसानों की खेत में पड़ी फसलें घर लाने की व्यवस्था करनी होगी। इसलिये भी कि अगर संकट लंबे दौर तक चलता है तो देश को खाद्यान्य की कमी ना पड़े। किसानों को हो रहे नुकसान के लिये भरपाई की व्यवस्था करनी होगी। सरकारों के सारे उपाय संगठित क्षेत्र और विभिन्न योजनाओं में रजिस्टर हुए लोगों के लिये दिखाई दे रहे हैं। उन्हें ध्यान रखना होगा कि ऐसे लाखों लोग देश में रहते है जो कही भी रजिस्टर नहीं होंगे। उनके लिये अधिक जिम्मेदारी के साथ व्यवस्था करनी होगी। अनाथ, भिखारी इनके बारे में भी सोचना होगा।

कोरोना संक्रमित व्यक्ति का संपर्क होने से या फिर कोरोना संक्रमित व्यक्ति के बोलते, खांसते या छींकते समय बाहर पड़ी बूंदों के संपर्क में आने से कोरोना वायरस का संक्रमण होता है। मुंह से बाहर पड़ा कोरोना वायरस 6 फुट ऊंचाई से जमीन पर पहुंचने तक 34 मिनट हवा में होता है। एक बूंद में लाखों कोरोना वायरस होते हैं। ऐसी बूंदों में अलग अलग सतह पर कोरोना वायरस 10 मिनट से लेकर अधिकतम 3 दिन तक जीवित रह सकते हैं। संक्रमित सतह के संपर्क में आने से और हाथ का आंख, मुंह, नाक को स्पर्श होने से कोरोना शरीर में प्रवेश करता है। इस प्रकार एक से दूसरा व्यक्ति संक्रमित होता है और ऐसे हर संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से इसकी एक श्रृंखला बनती जाती है और वह तेज गति से समाज में फैलता है।

विदेश से आये संक्रमित व्यक्ति से किसी दूसरे व्यक्ति को संक्रमण होना स्टेज 1 माना गया है। इन संक्रमित व्यक्तिओं का दूसरे अनेक व्यक्तियों तक पहुंचाना स्टेज 2 माना गया है और जब यह संपर्क एक से दो और दो से अनेक ऐसी एक श्रृंखला की तरह सामुदायिक संक्रमण होता है तब हम स्टेज 3 में पहुंचते हैं। तीसरे स्टेज में वह समाज में तेजी से फैल जाता है। भारत अब स्टेज 3 में प्रवेश कर रहा है।

विदेश से भारत में संक्रमित लोग आये। उन्होंने संपर्क में आये अनेक स्थानीय लोगों को संक्रमित किया। फिर स्थानीय संक्रमित व्यक्तियों ने उनके संपर्क में आये अनेकों को संक्रमित किया। यह अनेक संक्रमित लोग गावों में लौटकर अपने साथ कोरोना को अपने गांव और अपने घर ले गये। एक श्रृंखला बनती गई। आज हजारों कोरोना कैरियर पूरे देश में गावों, कस्बों, छोटे-बडे शहरों में पहुंच चुके है। इसके कारण देश में कोरोना तेजी से फैल रहा है और फैलता जायेगा। यह एक सुनामी का रूप धारण कर सकता है।

जबतक कोविद 19 पर कोई इलाज नहीं मिलता तबतक कोरोना से संक्रमित होने से बचना एकमात्र उपाय है। जबकि वह पूरे देश में फैल चुका है और आप कही भी संक्रमित व्यक्ति या संक्रमित व्यक्ति के मुंह से निकली बूंदों से संक्रमित सतह के संपर्क में आने का खतरा बन गया है। ऐसी परिस्थिति में अपने आपको घर में बंद रखना ही कोरोना से बचने का उपाय है। इससे ही लोगों की सुरक्षा होगी।

कोरोना वायरस का बाह्य आवरण कमजोर होने के कारण किसी भी साबुन से 20 सेकेंड से ज्यादा समय तक 7 स्टेप्स के साथ हाथ धोने पर उसका बाह्य आवरण टूटने से वह मर जाता है। इसलिये डॉक्टरों ने बारबार साबुन से हाथ धोने की सिफारिश की है। साथ ही जिस सतह पर कोरोना पडा है, वहां 24 घंटों से अधिकतम तीन दिन में कोरोना वायरस मर जायेगा। आपके घर में बाहर से आ रहे किसी भी वस्तु जैसे अखबार, दूध के पैकेट या अन्य ऐसी चीजों के माध्यम से भी वह आपके घर में प्रवेश कर सकता है। इसलिये अभी बाहर से कोई भी वस्तु घर में ना लाएं। अगर कुछ लाना जरूरी हो तो पैकेट साबुन से धोकर या कमसे कम 24 घंटे अलग रखकर बाद में उसका इस्तेमाल करना उचित होगा।

घर, पड़ोस, गांव या शहर में संक्रमित व्यक्ति को अलग रखकर उसका उपचार करना होगा। लेकिन कोरोना के लक्षण प्रकट होने में 14 दिन तक का समय लग सकता है और 21 दिनों में मरीज की स्थिति स्पष्ट होगी। इसलिये कर्फ्यू कम से कम 21 दिनों तक रखना ही होगा। लेकिन हम ठीक से सावधानी नहीं बरतते इसलिये तब तक कर्फ्यू बढ़ाने की जरूरत पडेगी जब तक कि इसका फैलाव नियंत्रित नही होता। इसलिये जितनी दक्षता हम लेंगे और बचाव के उपायों का पालन करेंगे उतने जल्दी हम संकट से बच पाएंगे। यह कर्फ्यू दो तीन महीने से अधिक भी बढ़ सकता है।