गोलवलकर ने 1971 में जो भरोसा इंदिरा को दिया था, क्या वो आज भागवत दे सकते हैं देश को!

– एल. एस. हरदेनिया मुझे मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर से मुलाकात करने में अत्यधिक बौद्धिक आनंद आता था। उनका जीवन संघर्ष से भरपूर था। उनके संस्मरण … Read More

तू जिंदा है..! की तान, भारत भवन की एक शाम

जनगीत हमारी प्रतिरोध की सांस्कृतिक विरासत का अहम औजार रहे हैं। लड़ाई के जमीनी साथी मिलें और वो जनगीत न गाएं ऐसा कम ही होता है। भोपाल के भारत भवन … Read More